Ganga Dussehra 2019: अयोध्या से जुड़ी है स्वर्ग से पृथ्वी पर गंगा अवतरण की घटना, पढ़ें कथा

Ganga Dussehra 2019: ज्येष्ठ शुक्ल दशमी को स्वर्ग में हबने वाली गंगा का पृथ्वी पर अवतरण हुआ था, इस कारण से इस तिथि को गंगा दशहरा के नाम से जाना जाता है। इस वर्ष गंगा दशहरा 12 जून दिन बुधवार को मनाया जा रहा है। गंगा के स्वर्ग से पृथ्वी पर आने की घटना मर्यादापुरुषोत्तम श्रीराम की अयोध्या नगरी से जुड़ी है। गंगा दशहरा के अवसर ज्योतिषाचार्य पं गणेश प्रसाद मिश्र बता रहे हैं गंगा अवतरण की कथा —. गंगा अवतरण की पौराणिक कथा. सूर्यवंशी श्रीराम का जन्म अयोध्या में हुआ था। उनके पूर्वजों में एक चक्रवर्ती सम्राट थे महाराजा सगर। उनकी दो रानियों में से केशनी से एक पुत्र असमंजस था तो ...

Related news

गंगा दशहरा पर काशी में हजारों आस्थावानों ने लगाई डुबकी

कार्यक्रम संयोजक पवन शुक्ला ने कहा कि सनातन धर्म में गंगा केवल एक नदी ही नहीं अपितु देवी और माता के रूप में पूजी गई हैं। गंगा हमारी आस्था का केंद्र एवं राष्ट्र गौरव भी हैं। आवश्यकता है कि हम गंगा को मातृभाव से पूजते हुए इनका संरक्षण करें। वर्तमान में हमें भी भागीरथ प्रयास करना चाहिए तथा जनमानस में इसके लिए जागरूकता भी होनी चाहिए। गंगा दशहरा के पावन पर्व पर मां गंगा का पृथ्वी पर प्रादुर्भाव हुआ। आज के दिन स्नान एवं दान का विशेष महत्व है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप में पवन शुक्ला,विष्णुरत्न पांडेय, विशाल औढेंकर,राकेश तिवारी,नवीन कसेरा,शीतांशु शास्त्री,नरेंद्र बाजपेयी, ...
Wednesday, June 12, 2019

गंगा दशहरा: 75 साल बाद शुभ महोत्सव पर बन रहा है 'दिव्य योग'

गंगा दशहरा के पर्व की महिमा क्या है. गंगा दशहरा का पर्व ज्येष्ठ शुक्ल दशमी तिथि को मनाया जाता है. माना जाता है कि, इसी दिन गंगा का अवतरण धरती पर हुआ था. इस दिन गंगा स्नान, गंगा जल का प्रयोग, और दान करना विशेष लाभकारी होता है. इस दिन गंगा की आराधना करने से पापों से मुक्ति मिलती है. व्यक्ति को मुक्ति मोक्ष का लाभ मिलता है. इस बार गंगा दशहरा 12 जून को मनाया जाएगा. 75 साल बाद बना दिव्य योग. गंगा दशहरा पर 75 साल बाद 10 दिव्य योग का संयोग बन रहा है. दस योग में ज्येष्ठ योग, व्यतिपात योग, गर करण योग, आनंद योग, कन्या राशि के चंद्रमा व वृषभ राशि के सूर्य की दशा में महायोग बन रहा है.
Wednesday, June 12, 2019

Ganga Dussehra 2019: 12 जून को है गंगा दशहरा, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा-विधि और कथा

हिंदु मान्यता के अनुसार गंगा दशहरा के दिन गंगा का अतवार हुआ था. यानी इसी दिन गंगा नदी का धरती पर जन्म हुआ था. गंगा दशहरा से एक प्रचलित कथा के अनुसार ऋषि भागीरथ को अपने पूर्वजों की अस्थियों के विसर्जन के लिए बहते हुए निर्मल जल की आवश्यकता थी. इसके लिए उन्होंने मां गंगा की कठोर तपस्या की, जिससे मां गंगा पृथ्वी पर अवतरित हुईं. लेकिन गंगा के तेज बहाव के कारण वह अस्थियां विसर्जित नहीं कर पाए. तब मां गंगा ने कहा कि यदि भगवान शिव उन्हें अपनी जटाओं में समा कर पृथ्वी पर मेरी धारा प्रवाह कर दें, तो यह संभव हो सकता है. ऋषि भागीरथ ने अब भगवान शिव की तपस्या कर गंगा की धारा जटाओं ...
Wednesday, June 12, 2019

Ganga Dussehra 2019: आज है गंगा दशहरा, जानिए शुभ मुहूर्त और पूजा-विधि

माना जाता है भागीरथ अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए धरती पर गंगा को लाना चाहते थे। क्योंकि एक श्राप के कारण केवल मां गंगा ही उनका उद्धार पर सकती थीं। जिसके लिए उन्होंने मां गंगा की कठोर तपस्या की। उनकी तपस्या से प्रसन्न होकर मां गंगा ने दर्शन दिए और भागीरथ ने उनसे धरती पर आने की प्रार्थना की। फिर गंगा ने कहा कि मैं धरती पर आने के लिए तैयार हूं , लेकिन मेरी तेज धारा से धरती पर प्रलय आ जाएगी। जिस पर भागीरथ ने उनसे इसका उपाय पूछा और मां गंगा ने भागीरथ को इसका उपाय बताया। माना जाता है मां गंगा के प्रचंड वेग को नियंत्रित करने के लिए भगवान शिव ने उन्हें अपनी ...
Wednesday, June 12, 2019

Ganga Dussehra 2019: आज है गंगा दशहरा, जानिए शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा-विधि और कथा

नई दिल्ली: 12 जून को गंगा दशहरा (Ganga Dussehra 2019) मनाया जा रहा है. इस दिन लोग पवित्र गंगा नदी में स्नान करते हैं और दान-पुण्य के काम करते हैं. सुबह ब्रह्म मुहूर्त में स्नान के बाद पूजा-पाठ और व्रत रखते हैं. गंगा दशहरा के मौके पर हजारों श्रद्धालु हरिद्वार और वाराणसी में गंगा जी में डुबकी लगाते हैं. नदी किनारे हवन और तप करते हैं. गंगा दशहरा कब आता है? हिंदू कैलेंडर के मुताबिक हर साल ज्‍येष्‍ठ माह की शुक्‍ल पक्ष की दशमी तिथि को गंगा दशहरा मनाया जाता है. वहीं, अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक गंगा दशहरा मई या जून में आता है. इस बार यह 12 जून को मनाया जा रहा है. Ganga Dussehra 2019: 12 जून को ...
Wednesday, June 12, 2019