संयुक्त परिवार के बाद अब एकल परिवार से भी उकताने लगे लोग

जागरण संवाददाता, संगरूर : वसंत वैली पब्लिक स्कूल लड्डा की प्रधानाचार्य योगिता भाटिया ने कहा कि वसुधैव कुटुंबकम यानि संपूर्ण विश्व एक परिवार के समान है की भावना का जितनी तेजी से प्रसार हो रहा है, उतनी तेजी से व्यक्तिगत परिवारों में दरारें आ रही हैं। इसे एक चिताजनक विषय बताते कहा कि आज की तेज रफ्तार जिदगी के कारण हर व्यक्ति स्वयं को अकेला अनुभव कर रहा है। पहले संयुक्त परिवार टूटे व एकल परिवारों में लोग स्वयं को सुखी अनुभव करने लगे, कितु अब एकल परिवारों से भी लोग उकताने लगे हैं। पति-पत्नी एक दूसरे के प्रति अपने कर्तव्यों को निभाना अपने स्वाभिमान के विरुद्ध समझने लगे ...

Related news

International Family Day 2019 : अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस पर जानें नए दौर के नए रिश्तों की कहानी

बदल गया है रिश्तों का रूप. परिवार रिश्तों का ताना-बाना ही तो है, जो स्नेह और संबल के धागों से गुंथा हुआ है। इन रिश्तों का रूप और स्वरूप दोनों अब काफी बदल गए हैं। अब रिश्ते ना बोझ बनते हैं और ना ही बेवजह की जिम्मेदारी। परिवार में हर उम्र के सदस्यों को एक जरूरी स्पेस दिया जाता है। इस तरह मन की बातें कहने-सुनने का माहौल बन रहा है। बंदिशों की जगह समझाइशों ने ले ली है। Also Read - International Family DAY 2019 : अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस पर जानें आखिर क्यों बिखरता है परिवार ...
Wednesday, May 15, 2019

International Day of Family 2019: हर व्यक्ति के जीवन का मजबूत स्तंभ है 'परिवार', जानें खास बातें

International Day of Family 2019: हर व्यक्ति के जीवन का मजबूत स्तंभ है 'परिवार', जानें खास बातें. लाइफस्टाइल डेस्क, अमर उजाला, Updated Wed, 15 May 2019 02:39 PM IST. international family day 2019: history and theme of international family day. 1 of 5. - फोटो : social media. 15 मई को इंटरनेशनल फैमिली डे यानि की अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस पूरे विश्व में मनाया जाता है। हर साल मई के महीने में मनाए जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय परिवार दिवस को संयुक्त परिवार के महत्व और परिवार की जरुरत के प्रति युवाओं में जागरुकता फैलाने के लिए सेलिब्रेट किया जाता है। आइए जानते हैं आखिर इंटरनेशनल फैमिली डे क्यों मनाया जात है और इतिहास ...
Wednesday, May 15, 2019