संगीत और शिल्पकला की देवी हैं सरस्वती

बरेली। वसंत पंचमी का दिन मां सरस्वती को समर्पित है। इस दिन मां सरस्वती की पूजा-अर्चना की जाती है। माता सरस्वती को ज्ञान, संगीत, कला, विज्ञान और शिल्पकला की देवी माना जाता है। यह बात जेएस किड्स जोन स्कूल में मुख्य अतिथि सुमन कपूर ने कही। इस दौरान बच्चों ने सरस्वती वंदना के साथ कई गीत-नृत्य भी पेश किए। आयोजन में सीमा मेहरोत्रा, सोनम सक्सेना, रुबी, प्रीति, नीरू आदि का सहयोग रहा। ब्यूरो. विज्ञापन. विज्ञापन. Recommended. Indian Railways cancelled 3 dozens train till holi · Business Diary · होली पर घर जाने की सोच रहे हैं तो भूल जाइये, रेलवे ने दिया तगड़ा झटका. 9 फरवरी 2019. Bollywood · बॉलीवुड ...

Sunday, February 10, 2019

Related news

जानें, सरस्वती माता के मंदिर के बारे में, इस विचित्र वजह से भक्त करने आते हैं दर्शन

आंध्र प्रदेश में है सरस्वती माता का यह विचित्र मंदिर. सरस्वती माता के इस मंदिर के बारे में तरह-तरह की किवदंतियां प्रचलित है। यह मंदिर आंध्र प्रदेश के बासर गांव में गोदावरी नदी के तट पर स्थित है। इस मंदिर में केंद्रीय रूप से सरस्वती माता की भव्य प्रतिमा स्थापित है, उनके साथ लक्ष्मी माता भी यहां विराजमाान हैं। सरस्वती देवी की मूर्ति लगभग 4 फुट की ऊंची है। यहां वह पद्मासन मुद्रा में है। इस मंदिर की सबसे खास बात है कि मंदिर के एक स्तंभ से संगीत के सातों स्वर सुनाई देते हैं, इसी विशेषता के चलते भक्त यहां खींचे चले आते हैं। कोई भी ध्यानपूर्वक कान लगाकर इस ध्वनि को सुन सकता है।